मनोरंजन (Entertainment)
Trending

‘शमशेरा’ के ट्रेलर रिलीज पर भावुक हुए रणबीर,कहा- काश पापा फिल्म देख पाते

ऋषि कपूर (Rishi Kapoor) को दुनिया से अलविदा कहे दो साल हो गए, लेकिन उन्हें याद कर आज भी उनका परिवार इमोशनल हो जाता है. रणबीर कपूर (Ranbir Kapoor) इन दिनों फिल्म ‘शमशेरा’ (Shamshera) के लिए सुर्खियां बटोर रहे हैं. फिल्म को लेकर उत्साहित हैं, लेकिन मन में एक टीस भी है, कि उनके पापा इस फिल्म को देखने के लिए इस संसार में नहीं हैं.

👆भाषा ऊपर से चेंज करें

रणबीर कपूर (Ranbir Kapoor) करीब 4 साल के बाद अपनी मोस्ट अवेटेड अपकमिंग फिल्म ‘शमशेरा’ (Shamshera) के जरिए फिल्मी पर्दे पर वापसी कर रहे हैं। ये मल्टी-स्टारर फिल्म अलग-अलग भाषाओं में रिलीज होगी,फिल्म के अलग-अलग पोस्टर और टीजर को मेकर्स ने जारी कर दर्शकों का एक्साइटमेंट लेवल बढ़ा दिया है। फिल्म ‘शमशेरा’ का ट्रेलर आज रिलीज होने वाला है। रणबीर कपूर को ‘शमशेरा’ में देखने के लिए भले लोग बेकरार हो, लेकिन वह अपने पापा यानी ऋषि कपूर (Rishi Kapoor) को याद कर काफी भावुक हो रहे हैं।

Open Free Demat Account

पापा को याद कर क्या बोले रणबीर

रणबीर ने हाल ही में एक प्रेस स्टेटमेंट में कहा,‘काश… मेरे पापा इस फिल्म को देखने के लिए जिंदा होते। वह हमेशा मेरे काम को लेकर मेरी स्पष्ट आलोचना करते थे। मेरा काम उन्हें पसंद आया हो या नहीं आया हो,वह हमेशा अपनी स्पष्ट प्रतिक्रिया देते थे। ये दुख की बात है कि,वह इसे देखने के लिए नहीं हैं।

Actor के रूप में विकसित होना चाहते हैं रणबीर

‘शमशेरा’को लेकर रणबीर ने आगे कहा,‘मैं एक एक्टर के रूप में विकसित होना चाहता हूं और मुझे लगता है कि,‘शमशेरा’ इस दिशा में एक सकारात्मक कदम है। आप बड़े दर्शकों के लिए फिल्में बनाना चाहते हैं, आप ऐसी कहानियां बताना चाहते हैं,जिनसे दर्शक जुड़ सकें और एंटरनटेन हो सकें। अभी ये फिल्म रिलीज नहीं हुई है, लेकिन मैं देखना चाहता हूं कि दर्शक मुझे इस रोल में कैसे स्वीकार करते हैं.’

क्या है ‘शमशेरा’की कहानी

‘शमशेरा’ की कहानी काजा नाम के एक काल्पनिक शहर पर आधारित है,जिसमें एक लड़ाका कबीले को एक निर्दयी सेनापति शुद्ध सिंह द्वारा बंदी और गुलाम बनाया जाता है और उन लोगों को बुरी तरह सताया जाता है। ये कहानी एक ऐसे इंसान की है जो पहले गुलाम बना,फिर गुलामों का सरदार बन गया और अंत में अपने कबीले की हिफाजत करने वाला सबसे बड़ा योद्धा बन गया। वह अपने कबीले की आजादी और सम्मान के लिए जी-जान से संघर्ष करता है। उसका नाम शमशेरा है

Tags

Related Articles

Back to top button
Close