देश (National)शिक्षा/रोजगार (Education/Job)
Trending

Antyodaya Diwas 2022: भारत की चतुर्दिक उन्नति पं.दीन दयाल उपाध्याय का सपना

केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के अन्त्योदय परिकल्पना को आगे बढ़ाने के लिए कटिबद्ध है- कुलपति प्रो वरखेड़ी

👆भाषा ऊपर से चेंज करें

भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति के युग पुरुष तथा एकात्म मानववाद की वैश्विक भावना के प्रेरणा स्रोत पण्डित दीन दयाल उपाध्याय के पावन जयन्ती पर केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय, दिल्ली के कुलपति प्रो श्रीनिवास वरखेड़ी ने  ‘अन्त्योदयदिवस ‘ की अपार शुभकामनाएं केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय परिवार तथा सभी देश वासियों को दी है।
        इस अवसर पर कुलपति प्रो वरखेड़ी ने यह भी कहा है कि भारत की चतुर्दिक उन्नति का सही अर्थ वहां के समाज के सबसे अंतिम कड़ी को उस  विकास तथा समृद्धि का यथार्थ लाभ मिल सके। यही आदरणीय पं.दीन दयाल उपाध्याय जी का सपना था। उनके इस सपना को साकार करना ही सच्ची देश भक्ति है। इसी से समग्र राष्ट्र का उत्थान होगा। साथ ही साथ सबका साथ सबका विकास तथा वोकल से लोकल के सोपान तक हम पहुंच सकते हैं क्योंकि आदरणीय उपाध्याय जी देश की उन्नति तथा खुशहाली को जन जन तक पहुंचाना चाहते थे। केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्याल पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की परिकल्पना  ‘अन्त्योदय ‘ को आगे बढ़ाने के लिए कटिबद्ध है।
        कुलपति ने पंडित जी के इस वैश्विक एकात्मक मानवतावादी उत्थान की भावना को लेकर महर्षि अरविंद के ‘महामानव’ की भावना का भी उल्लेख किया।
Tags

Related Articles

Back to top button
Close