photo galleryदेश (National)शिक्षा/रोजगार (Education/Job)

गाँवों को आत्मनिर्भर बनाने में राष्ट्रीय ग्रामीण विकास व पंचायती राज संस्थान की महत्वपूर्ण भूमिका

संस्थान को अपने नॉलेज पार्टनर बढ़ाने की आवश्यकता है तथा मूल्यांकन के कार्यक्रमों को भी अपनाना भी जरुरी है -केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री गिरिराज सिंह

👆भाषा ऊपर से चेंज करें

दिल्ली में राष्ट्रीय ग्रामीण विकास व पंचायती राज संस्थान की महत्वपूर्ण बैठक हुई। इस संस्थान की 65 वीं महापरिषद की बैठक में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री गिरिराज सिंह बतौर मुख्य अतिथि और अध्यक्ष के रूप में शामिल हुए।
          केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री गिरिराज सिंह ने बैठक में बोलते हुए कहा कि समग्र विकास के व्यापक दृष्टिकोण (Approach) और गाँवों के आत्मनिर्भरता के मिशन में राष्ट्रीय ग्रामीण विकास व पंचायती राज संस्थान की महत्वपूर्ण भूमिका है। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने आगे बोलते हुए कहा कि संस्थान को अपने नॉलेज पार्टनर बढ़ाने की आवश्यकता है तथा मूल्यांकन के कार्यक्रमों को भी अपनाना भी जरुरी है। राष्ट्रीय ग्रामीण विकास व पंचायती राज संस्थान ग्रामीण शोध व प्रशिक्षण में देश का अग्रणी संस्थान है जिसकी बदौलत ग्रामीण विकास की योजनाएँ कारगर तरीक़े से लागू की गई है। गिरिराज सिंह ने वर्तमान महानिदेशक की उपलब्धियों का भी ज़िक्र करते हुए कहा कि संस्थान अब नये स्वरूप में दिखाई दे रहा है।
         केंद्र सरकार की नरेन्द्र मोदी सरकार में ग्रामीण विकास राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा कि ग्रामीण विकास के नए मॉडल बनाने और व्यावहारिक शोध पर भी ज़ोर दिया जा रहा है। इस महत्वपूर्ण बैठक में ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव नागेंद्र नाथ सिन्हा व पंचायती राज मंत्रालय के सचिव व अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।
-ओम कुमार
Tags

Related Articles

Back to top button
Close