देश (National)धर्म/समाज
Trending

काशी की देव दीपावली

काशी के घाट, कुंड और सरोवरों पर 21 लाख दीपों की जगम ने काशी को स्वर्ग बना दिया।

👆भाषा ऊपर से चेंज करें

भगवान शिव की नगरी काशी के गंगा घाटों पर दीपों का अद्भुत जगमग प्रकाश ‘देवलोक’ जैसे रहा. इस महा आयोजन में लाखों की संख्या में लोगों की भीड़ काशी(Kashi) की ओर उमड़ी। काशी की देव दीपावली पर गंगा के घाटों की न सिर्फ छटा अलौकिक(Divine) दिखी बल्कि काशी जगमग ने मन मोह लिया।
भव्य और दिव्य काशी की देव दीपावली इस बार नव्य स्वरूप में देवताओं के साथ ही काशी वासियों के लिए अद्भुत रही। इस बार काशी के घाट, कुंड और सरोवरों पर 21 लाख दीपों की जगम ने काशी को स्वर्ग बना दिया।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट किया कि- “भारत की प्राचीन संस्कृति, अध्यात्म और परंपरा के प्रतीक पर्व कार्तिक पूर्णिमा एवं देव दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं। पवित्र स्नान और दीपदान से जुड़ा यह अवसर हर किसी के जीवन में नई ऊर्जा का संचार करे”
काशी के प्रमुख घाटों में से एक दशाश्वमेध घाट पर अमर शहीदों को श्रद्धांजलि देकर कार्यक्रम की शुरुआत हुई। देव दीपावली का मुख्य कार्यक्रम राजघाट पर हुआ। चेत सिंह घाट पर लेजर शो का कार्यक्रम हुआ। काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के सामने गंगा पार रेती पर आतिशबाजी की गई जिससे आसमान में रोशनी जगमगा उठी।
काशी के मंडलायुक्त कौशल राज शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि शंघाई सहयोग संगठन (एससीए) देशों से रूस के एक व किर्किस्तान के दो सदस्य इस बार देव दीपावली में विशेष अतिथि के रूप में शामिल हुए।
जिलाधिकारी एस राजलिंगम ने बताया कि सरकारी इमारतों, सभी चौराहों और पोलों पर स्पायरल तिरंगा एलईडी लाइटिंग लगाई गई है। एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन पर उतरने वाले यात्रियों का स्वागत किया गया। इस बार के काशी की देव दीपावली में जिला प्रशासन की ओर से 10 लाख दीप और काशीवासियों के सहयोग से 11 लाख दीपक जलाए गए।
-ओम कुमार
Tags

Related Articles

Back to top button
Close