Contact Usकाम की खबर (Utility News)मेरे अलफ़ाज़/कवितायुवागिरीशिक्षा/रोजगार (Education/Job)
Trending

WORKSHOP ON PHOTO JOURNALISM: भूपिंदर सिंह ने कहा- फील्ड पर फोटोग्राफी कभी परिपूर्ण नहीं होती, यह हमेशा चैलेंजिंग

- दिल्ली के सीनियर फोटो जर्नलिस्ट भूपिंदर सिंह ने पत्रकारिता में फोटोग्राफी को लेकर दिए अहम टिप्स

👆भाषा ऊपर से चेंज करें

भोपाल. विंग्स एंड रिंग्स मीडिया के बैनर तले ‘चैलेंज इन फोटो जर्नलिज्म’ विषय पर भोपाल में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस वर्कशॉप में दिल्ली के सीनियर फोटो जर्नलिस्ट भूपिंदर सिंह ने पत्रकारिता में फोटो की उपयोगिता और फील्ड के दौरान सामने आने वाली विभिन्न चुनौतियों पर बारीकी से प्रकाश डाला। इसके अलावा उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि फोटोग्राफी कभी परिपूर्ण नहीं होती, वह हमेशा ही चैलेंजिंग रही है। चाहे पत्रकारिता हो या अन्य कोई भी क्षेत्र।

Open free Demat Account

करीब 3 घंटे चली कार्यशाला में विद्यार्थियों ने बेसिक ऑफ फोटोजर्नलिज्म, टिप्स, टेक्निक एंड ट्रिक्स इन फोटो जर्नलिज्म और डिजिटल स्मार्टनेस इन फोटो जर्नलिज्म को लेकर महत्वपूर्ण जानकारियां हासिल की। भूपिंदर सिंह ने भी दिल्ली में बतौर फोटो जर्नलिस्ट अपने खट्टे-मीठे अनुभव साझा किए। साथ ही उन्होंने लाइव फोटो सेशन में विद्यार्थियों को कैमरा हैंडलिंग, कैमरा सेटिंग, इमेज कैप्चरिंग, कैमरा बॉडी, लैंस, ISO, अपर्चर, पिक्सल, शटरस्पीड से जुड़े टिप्स दिए। इस मौके पर विंग्स एंड रिंग्स मीडिया के डायरेक्टर हितेश कुशवाहा ने भूपेंदर सिंह का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कार्यशालाओं की इस कड़ी में आगे भी अलग-अलग क्षेत्र के अनुभवी पत्रकारों के साथ वर्कशॉप की जाएंगी।

‘फील्ड पर सूत्र ही सबसे बड़े आधार स्तंभ’
सीनियर फोटो जर्नलिस्ट भूपिंदर सिंह ने कहा कि फोटोग्राफी एक गतिशील क्षेत्र रहा है, जो हमेशा फील्ड पर चुनौतियों से घिरा रहा है। एक फोटोजर्नलिस्ट को रिस्की कवरेज के दौरान खुद को सुरक्षित रखने के साथ काम को भी तरजीह देनी होती है। इस तरह के कवरेज में सबसे बड़े आधार होते हैं, फील्ड पर बनाए हुए आपके सूत्र। इस दौरान हमें फोटो में न्यूज एंगल को भी ध्यान रखना होता है। कभी-कभी फोटोग्राफर की फोटो ही सब कुछ बयां कर देती है, उसे समझाने के लिए शब्दों कि जरूरत नहीं होती। Read More: धोनी ने CSK की कप्तानी छोड़ी, जड़ेजा के हाथों में होगी कमान

 

कई नामी संस्थानों में सेवाएं दे चुके हैं सिंह
भूपिंदर सिंह का नाम दिल्ली-एनसीआर के दिग्गज फोटो जर्नलिस्ट की फेहरिस्त में शुमार है। उन्होंने निर्भया कांड, सुनंदा पुष्कर की संदिग्ध मौत और सहारा श्री पर स्याही फेंकने जैसे कई घटनाओं पर फोटो के माध्यम से यादगार कवरेज दी है। भूपिंदर सिंह अपने 17 साल से ज्यादा के करियर में दैनिक भास्कर, दैनिक जागरण, अमर उजाला जैसे कई मीडिया संस्थानों में सेवाएं दे चुके हैं। उन्होंने दो साल पहले www.dainikindia24x7.com वेब पोर्टल की नींव रखी। इसके माध्यम से वह डिजिटल पत्रकारिता में नवाचारों को लेकर कार्य कर रहे हैं।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close