दुनिया (International)
Trending

यह देश जल्द बन सकते है NATO के सदस्य, बढ़ सकता है रुस के साथ तनाव

स्टोल्टेनबर्ग ने कहा अगर फिनलैंड और स्वीडन नाटो में शामिल होना चाहते है,तो उनका गर्मजोशी से स्वागत किया जाएगा। मुझे उम्मीद है कि यह प्रक्रिया जल्दी चलेगी। उन्होंने कहा हम दोनों देशो से कुछ सुरक्षा की उम्मीद रख सकते है।

👆भाषा ऊपर से चेंज करें

ब्रसेल्स, एपी: नाटो महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग(Jens Stoltenberg) ने गुरुवार को कहा कि अगर फिनलैंड(Finland) और स्वीडन(Sweden) 30 देशों के सैन्य संगठन में शामिल होने का फैसला करते हैं तो बहुत जल्दी नाटो(NATO) के सदस्य बन सकते हैं। उन्हें खुले हाथों से गले लगाया जाएगा। स्टोल्टेनबर्ग ने कहा कि फिनलैंड और स्वीडन देश, यूक्रेन(Ukraine) में रूस(Russia) के युद्ध के जवाब में नाटो सदस्यता के लिए जनता के समर्थन के रूप में आए थे। दोनों देशों में मीडिया(Media) की अटकलों से पता चलता है कि दोनों मई के मध्य में आवेदन कर सकते हैं।

open demat account

स्टोल्टेनबर्ग ने कहा अगर फिनलैंड और स्वीडन नाटो में शामिल होना चाहते है,तो उनका गर्मजोशी से स्वागत किया जाएगा। मुझे उम्मीद है कि यह प्रक्रिया जल्दी चलेगी। उन्होंने कहा हम दोनों देशो से कुछ सुरक्षा की उम्मीद रख सकते है।

यूक्रेन को किया आठ बिलियन(Billion) डॉलर की सैन्य सहायता देने का वादा

स्टोल्टेनबर्ग ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि उस अंतरिम अवधि को इस तरह से पाटने के तरीके हैं,जो काफी अच्छे होंगे। हम फिनलैंड और स्वीडन दोनों के लिए काम करेंगे। नाटो की सामूहिक सुरक्षा गारंटी यह सुनिश्चित करती है कि सभी सदस्य देशों को हमले के तहत किसी भी सहयोगी की सहायता के लिए आगे आना चाहिए। स्टोलटेनबर्ग ने कहा कि कई नाटो सहयोगियों ने अब यूक्रेन को कम से कम आठ बिलियन डॉलर की सैन्य सहायता देने का वादा किया है।

पुतिन ने कि थी मांग,बंद हो नाटो का विस्तार

यूक्रेन में युद्ध शुरू करने से पहले रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मांग की कि नाटो का विस्तार बंद हो जाए और रूस की सीमाओं से अपने सैनिकों(Soldier) को वापस खींच लिया जाए। इसलिए पड़ोसी देश फिनलैंड और स्वीडन के ट्रांस अटलांटिक गठबंधन (नाटो) में शामिल होने की संभावना का मास्को में स्वागत होने की संभावना नहीं है। Read More: सैटेलाइट तस्वीरें खोल रहीं पुतिन की पोल,अंतरिक्ष से हो रही रूस-यूक्रेन युद्ध की जासूसी

फिनलैंड का रूस के साथ संघर्ष ग्रस्त इतिहास

फिनलैंड का रूस के साथ संघर्ष ग्रस्त इतिहास रहा है, जिसके साथ वह करीब 1,340 किलोमीटर (830 मील) की सीमा साझा करता है। फिनलैंड ने स्वीडिश साम्राज्य के हिस्से के रूप में सदियों से अपने पूर्वी पड़ोसी के खिलाफ दर्जनों युद्धों में भाग लिया है और एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में 1939-40 और 1941-44 तक सोवियत संघ के साथ दो युद्ध लड़े हैं। हालांकि,युद्ध के बाद की अवधि में फिनलैंड ने मास्को के साथ व्यावहारिक राजनीतिक और आर्थिक संबंध और शेष सैन्य रूप से गुटनिरपेक्ष और पूर्व और पश्चिम के बीच एक तटस्थ बफर के रूप में काम किया है।

स्वीडन ने अपने पड़ोसियों के साथ सदियों के युद्ध के बाद शांति का रास्ता चुनते हुए 200 से अधिक वर्षों से सैन्य गठजोड़ से परहेज किया है। दोनों देशों ने 1995 में यूरोपीय संघ में शामिल होकर और नाटो के साथ सहयोग को गहरा करके पारंपरिक तटस्थता को समाप्त कर दिया। हालाँकि, दोनों देशों के अधिकांश लोग अब तक गठबंधन में पूर्ण सदस्यता के खिलाफ रहे हैं।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close