दुनिया (International)बिज़नेस
Trending

Srilanka Economy Crisis: श्रीलंका में खाद्य सामग्री से लेकर पेट्रोल-डीजल के दाम सातवें आसमान पर, दिवालिया होने के कगार पर देश, जानिए कारण

👆भाषा ऊपर से चेंज करें

नई दिल्ली.  पड़ोसी  देश श्रीलंका भूख से तड़प रहा है। एक किलो चीनी 290 रुपए में, एक किलो चावल 500 रुपए  में मिल रहा है। पेट्रोल के दाम 50 रुपए और डीजल के दाम 75 रुपए तक बढ़ चुके हैं। 1948 में आजाद होने के बाद श्रीलंका सबसे आर्थिक संकट से गुजर रहा है। चीन के कर्ज में फंसा श्रीलंका दिवालिया होने के कगार पर है।

Open free Demat Account
दिवालिया होने के कगार पर

श्रीलंका ऑयल, फूड, पेपर, चीनी, दाल, दवा और ट्रांसपोर्टेशन से जुड़े इक्विपमेंट के इंपोर्ट पर निर्भर है।
श्रीलंका के पास इन जरूरी वस्तुओं को सिर्फ 15 दिन तक ही इंपोर्ट करने का डॉलर बचा है। मार्च में देश के पास सिर्फ 2.36 बिलियन डॉलर ही बचा है।हालात ऐसे हैं कि सरकार के पास एग्जाम के पेपर छापने के कागज और इंक तक नहीं हैं।
डीजल-पेट्रोल और गैस के मामले में स्थिति कुछ ज्यादा ही गंभीर हो चुकी है। दो हफ्ते पहले ही यहां पर पेट्रोल के दाम 50 रुपए और डीजल के दाम 75 रुपए तक बढ़ाए गए थे। यहां पर एक लीटर पेट्रोल 254 श्रीलंकाई रुपए में मिल रहा है, जबकि डीजल 176 रुपए में मिल रहा है।श्रीलंका में पेट्रोल-डीजल खरीदने के चक्कर में कुछ लोगों की मौत भी हो चुकी है। हालात इस कदर बिगड़ चुके हैं कि श्रीलंका की सरकार ने पेट्रोल पंपों ओर गैस स्टेशनों पर सेना तैनात करने का फैसला किया है। पेट्रोल पंपों पर लंबी-लंबी कतारें देखी जा रही हैं। हजारों लोग घंटों तक कतार में खड़े होकर तेल खरीद रहे हैं।

श्रीलंका में अभी भी 20% परिवार खाना बनाने के लिए केरोसिन पर निर्भर हैं। इसके बावजूद अब केरोसिन भी लोगों को नहीं मिल रहा है। श्रीलंका में केरोसिन की सप्लाई भी पंपों से ही होती है।
पेट्रोलियम जनरल एम्प्लॉइज यूनियन के अध्यक्ष अशोक रानवाला के अनुसार, श्रीलंका में स्थिति इतनी गंभीर है कि क्रूड ऑयल का स्टॉक नहीं हाेने के चलते सरकार को अपनी एकमात्र ऑयल रिफाइनरी को बंद करना पड़ा है। इसके साथ ही 12.5 किलो वाले घरेलू सिलेंडर के दाम 1359 रुपए तक बढ़ गए हैं। अब सिलेंडर का दाम 4119 रुपए हो गया है।
श्रीलंका में फूड इन्फ्लेशन बढ़कर 25.7% हो गया है। इस वजह से दूध, ब्रेड जैसी जरूरी वस्तुओं के दाम आसमान छू रहे हैं। महंगाई का अंदाजा इसी से लगा सकते हैं आपकी सुबह की एक कप चाय की कीमत 100 रुपए हो गई है। वहीं एक किलो शक्कर 290 रुपए, एक किलो चावल 500 रुपए और 400 ग्राम मिल्क पाउडर 790 रुपए में मिल रहा है। Read More: उत्तराखंड में लागू होगा UCC, जानिए क्या है UCCऔर लागू होने पर क्या होगा?

विशेषज्ञों का कहना है कि चीन के कर्ज के जाल में फंसने से श्रीलंका की यह हालत हुई है। श्रीलंका ने चीन से कुल 5 बिलियन डॉलर का कर्ज ले रखा है। इसके साथ ही श्रीलंका ने भारत और जापान से भी कर्ज लिया हुआ है।

इसके अलावा श्रीलंका ने 2021 में भी चीन से मिले 1 बिलियन डॉलर का और कर्ज लिया था। श्रीलंका के राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे ने हाल में कर्ज की शर्तों को आसान करने के लिए चीन से कहा तो उसने मना कर दिया।
श्रीलंका के राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे ने चीन से भारी कर्ज लिया। हंबनतोता पोर्ट को लगभग एक हजार करोड़ रुपए में चीन को लीज पर दे दिया।

श्रीलंका काफी हद तक टूरिज्म पर निर्भर है। श्रीलंका की आबादी लगभग 2.19 करोड़ है और लगभग 25% आबादी टूरिज्म से जुड़ी है।
2019 में सीरियल बम ब्लास्ट होने और कोरोना काल में प्रतिबंधों के चलते श्रीलंका का टूरिज्म सेक्टर प्रभावित हुआ है। श्रीलंका की GDP में पर्यटन का हिस्सा अब 15 से 5% रह गया है। वहीं फॉरेन करेंसी की कमी के चलते कनाडा सहित कई देशों ने अपने नागरिकों को श्रीलंका न जाने की एडवाइजरी जारी की है। इस तरह की एडवाइजरी से भी टूरिज्म सेक्टर को काफी नुकसान हुआ है।
इसका नतीजा यह हुआ कि जिस सेक्टर से सबसे ज्यादा फॉरेन करेंसी आ रही थी वह तबाह हो गई। इसमें कमी आने से इंपोर्ट भी प्रभावित हुआ है।

श्रीलंका के राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे के सत्ता में आने के बाद से फॉरेक्स रिजर्व में कमी की शुरुआत हो गई। 2019 में गोतबाया जब सत्ता में आए थे तो उस समय श्रीलंका के पास 7.5 बिलियन डॉलर का फॉरेक्स रिजर्व था, जबकि जुलाई 2021 में यह घटकर 2.8 बिलियन डॉलर हो गया।
इसका सीधा अर्थ यह हुआ कि श्रीलंका में फॉरेन करेंसी की कमी हो गई है। इसके चलते सरकार के पास जरूरी वस्तुओं को खरीदने यानी इंपोर्ट करने के लिए पैसे नहीं हैं। इसके चलते श्रीलंका में पेट्रोल-डीजल और खाने सामानों की कमी हो गई है। इससे यहां बेतहाशा तरीके से मंहगाई बढ़ी है। जिसका सीधा असर श्रीलंका के लोगों पर पड़ रहा है।
देश में केमिकल फर्टिलाइजर से खेती बंद करने के आदेश का भी काफी घातक असर हुआ। एक्सपर्ट्स के मुताबिक इससे फसल उत्पादन में खासी गिरावट आई।

श्रीलंका इस आर्थिक संकट से उबरने के लिए फिर भारत और चीन से मदद मांग रहा है। चीन अभी श्रीलंका को 2.5 बिलियन डॉलर का कर्ज देने पर विचार कर रहा है। यह 2.8 बिलियन डॉलर की सहायता के अलावा है जिसे चीन ने कोरोना महामारी के बाद से श्रीलंका को दिया है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close