काम की खबर (Utility News)देश (National)बिज़नेस
Trending

Women’s Day: 2022 में 69% महिलाओं के लिए रियल एस्टेट रहा निवेश का सबसे पसंदीदा साधन

नोब्रोकर द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में 27% महिलाओं के लिए निवेश प्राथमिक प्रेरक के रूप में सामने आया

👆भाषा ऊपर से चेंज करें

नई दिल्ली. नोब्रोकर द्वारा हाल में किए गए एक सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है कि 69% महिलाओं ने गोल्‍ड, एसआईपी/ स्टॉक्‍स और लक्जरी फैशन के मुकाबले संपत्ति में निवेश करने को ज्‍यादा महत्‍व दिया है। घर खरीदने की चाहत रखने वाली महिला उत्तरदाताओं में से 27% ने निवेश को अपना प्राथमिक प्रेरक घोषित किया। 81% महिलाओं ने अंतिम उपयोग के लिए खरीदारी करना चाहा। नोब्रोकर की वार्षिक रियल एस्टेट रिपोर्ट (दिसंबर 2021 में जारी) में यह भी बताया गया है कि रियल एस्टेट वर्तमान में एक अंतिम उपयोगकर्ता का बाजार है। इस तथ्य के मद्देनजर निवेश के लिए संपत्ति खरीदने पर विचार करने वाली महिलाओं की संख्या आने वाले समय के लिए एक संकेतक है। इस मंच ने पिछले कुछ वर्षों में महिला खरीदारों की संख्या में पंजीकरण में लगातार वृद्धि देखी है।

Free Demat Account

निवेश के उद्देश्य से खरीदारी करने की चाहत रखने वाली ज्यादातर महिलाएं दिल्ली-एनसीआर और बैंगलोर से थीं, जबकि अंतिम उपयोग के लिए खरीदारी करने वाली महिलाएं ज्यादातर मुंबई और चेन्नई से थीं। यह सर्वेक्षण दिल्ली-एनसीआर, हैदराबाद, बैंगलोर, चेन्नई, मुंबई और पुणे में आयोजित किया गया था। इस सर्वेक्षण में 9000 से अधिक महिलाओं ने हिस्‍सा लिया।

निवेश के उद्देश्य से संपत्ति खरीदने की इच्‍छुक 41% महिलाओं ने यह भी बताया कि वे शहर के बाहरी इलाके में एक संपत्ति खरीदना चाह रही थीं। दो साल की महामारी और घर से काम करने की स्थिति ने शहर के बाहरी इलाके को काफी बढ़ावा दिया है। बड़े घरों को सस्ते दामों पर खरीदा जा सकता था और इससे बाहरी इलाकों की लोकप्रियता में इजाफा हुआ। इस सर्वे में शामिल 50% उत्‍तरदाता शहर की सीमा के भीतर खरीदारी करने की सोच रही थीं, जबकि 9% ने उल्लेख किया कि वे अपने गृहनगर में एक संपत्ति खरीदना चाह रहे थे।

इस सर्वे में शामिल 94% महिलाओं ने कहा कि वे आवासीय संपत्तियों में निवेश करने की तलाश में थीं जबकि 6% महिलाओं ने वाणिज्यिक संपत्तियों के लिए अपनी प्राथमिकता बताई। Read More: Jee Mains: कम समय में तैयारी करे इस प्रकार, मिलेगी सफलता

इस सर्वे में शामिल 73% महिलाएं 40-75 लाख रुपये के भीतर संपत्ति खरीदना चाह रही थीं जबकि 20% महिलाएं 75 लाख से लेकर 1 करोड़ रुपए के बीच की संपत्ति खरीदना चाह रही थीं। वहीं, 7% महिलाएं 1 करोड़ से अधिक की संपत्ति की तलाश में थीं। इस सर्वे से पता चला कि इन खरीदारों के बीच 1 और 2 बीएचके सबसे लोकप्रिय विकल्प थे।

इस सर्वे में शामिल 63% महिलाएं रेडी-टू-मूव प्रॉपर्टी पसंद करती हैं जबकि 37% महिलाओं को निर्माणाधीन प्रॉपर्टी पसंद है। रेडी-टू-मूव इन प्रॉपर्टी के लिए तैयार रहने वालों में से सबसे अधिक प्रतिशत (56%) बैंगलोर का था।

NoBroker.com के कोफाउंडर और चीफ बिजनेस ऑफिसर सौरभ गर्ग ने कहा, “हमारे नवीनतम सर्वेक्षण से पता चलता है कि रियल एस्टेट हमारी महिला ग्राहकों की मानसिकता में एक उल्‍लेखनीय स्थान पर कब्जा कर रहा है। परंपरागत रूप से, यह अनुपात हमेशा पुरुषों के पक्ष में झुका रहा है। यह देखना खुशी की बात है कि रियल एस्टेट से संबंधित फैसलों में इतनी सारी महिलाओं के भाग लेने के साथ चुनाव कैसे एकमत हो रहा है।

 

भारत में परंपरागत रूप से महिलाओं के लिए घर खरीदना प्रमुख एजेंडा नहीं होता है क्योंकि वे ज्यादातर अपने माता-पिता या पति या पत्नी के घर में रहती हैं। हालांकि पिछले कुछ वर्षों में बहुत अधिक बदलाव आया है और ज्‍यादा से ज्‍यादा महिलाएं आर्थिक रूप से स्वतंत्र हो रही हैं। लेकिन यह कहा जा सकता है कि उनमें से ज्‍यादातर महिलाओं के लिए परिवार/अंतिम उपयोग के लिए घर खरीदना प्राथमिकता नहीं है, शायद यही कारण है कि वे निवेश के उद्देश्य से प्रॉपर्टी खरीदने के लिए अधिक उत्सुक हैं।

 

महामारी ने सभी व्यावहारिक उद्देश्यों के लिए रियल एस्टेट को निवेश के लिए सबसे सुरक्षित विकल्प के रूप में स्थापित किया है। इसमें योगदान देने वाले अन्य कारक होम-लोन पर बेहद कम ब्‍याज दर और सरकारी पहलें थीं।

 

Tags

Related Articles

Back to top button
Close